मानव भूगोल

मानव भूगोल, भूगोल की दूसरी महत्वपूर्ण शाखा है। इसके अंतर्गत मानव तथा प्रकृति के अंतरसंबंध से विकसित सांस्कृतिक भूदृश्यों को विस्तार पूर्वक अध्ययन किया जाता है।  भूगोल की इस शाखा में पृथ्वी पर मानव और प्रकृति के अंतरसंबंध /अंतर्प्रक्रिया से उत्तपन्न तत्वों जैसे – मानव (जाति , प्रजाति , जनसंख्या वितरण, जनसंख्या घनत्व,जनसंख्या वृद्धि, प्रवास , निवास , मानवीय क्रियाएँ जैसे -कृषि , पशुपालन ,उद्योग सेवाएँ , परिवहन , संचार ,व्यापार इत्यादि ) का अध्ययन किया जाता है।

जनसंख्या वृद्धि की प्रवृति

जनसंख्या वृद्धि

जनसंख्या वृद्धि की प्रवृति का अर्थ यह है कि, जनसंख्या में अलग-अलग काल (समय) के में जनसंख्या के धनात्मक परिवर्तन से है। जबसे मानव ने इस पृथ्वी पर जन्म लिया है (20 लाख वर्ष से 50 लाख वर्ष पूर्व आरम्भिक मनुष्य के पूर्वज और, आदि मानव (homosapiens) 10 हजार से 20 लाख वर्ष पूर्व ) …

जनसंख्या वृद्धि की प्रवृति Read More »

जनसंख्या घनत्व।jansankhya ghanatv kya hai.

विश्व में जनसंख्या घनत्व का वितरण

jansankhya ghanatv kya hai प्रति इकाई क्षेत्र पर निवास करने वाली व्यक्तियों की संख्या को जनसंख्या घनत्व कहा जाता है। दूसरे शब्दों में किसी क्षेत्र मे कुल आबादी और कुल क्षेत्रफल के अनुपात को जनसंख्या घनत्व कहा जाता है। इसे निम्न सूत्र से निकला जाता है। जनसंख्या घनत्व = कुल आबादी / कुल क्षेत्रफल जैसे:- …

जनसंख्या घनत्व।jansankhya ghanatv kya hai. Read More »

जनसंख्या वितरण को प्रभावित करने वाले कारक

विश्व मे असमान रूप से जनसंख्या वितरण के पीछे कई कारक होते है उनमे से कुछ कारक निम्नलिखित है। इन्हें भी जानें :- जनसंख्या वृद्धि क्या है ? जनसंख्या वृद्धि के क्या कारण है ? जानिए जनसँख्या वृद्धि के परिणाम / प्रभाव विश्व जनसंख्या एवं वितरण भौतिक कारक उच्चावच / भू-आकृति उच्चावच का संबंध धरातल …

जनसंख्या वितरण को प्रभावित करने वाले कारक Read More »

विश्व जनसंख्या का वितरण

विश्व जनसंख्या का वितरण।

इस लेख में हमलोग यह जानने का प्रयास करेंगे कि विश्व की जनसंख्या का वितरण किस प्रकार है। जनसंख्या किसी क्षेत्र / प्रदेश मे निवास करने वाले लोगो की संख्या को जनसंख्या कहते है। इसमे पुरुष, महिला, तृतीय लिंग के सभी के आयु वर्ग (बच्चे, किशोर, युवा, वृद्ध ) को सम्मिलत किया जाते हैं। इसमे …

विश्व जनसंख्या का वितरण Read More »

मानव भूगोल की प्रकृति एवं विषय क्षेत्र

मानव भूगोल की प्रकृति

मानव भूगोल की प्रकृति : किसी भी विषय का अपना प्रकृति होता है। ठीक उसी प्रकार मानव भूगोल की अपनी प्रकृति है। मानव भूगोल कि प्रकृति से तातपर्य यह है कि मानव भूगोल के प्रत्येक विषय क्षेत्र में मानव तथा भौतिक तत्वों के अंतरसंबंध के विकास का अध्ययन किया जाता है। चाहे वह जनसंख्या हो …

मानव भूगोल की प्रकृति एवं विषय क्षेत्र Read More »

मानव भूगोल क्या है। Manav Bhugol

मानव भूगोल क्या है

मानव भूगोल को जानने से पहले हमे भूगोल के विषय में जानना होगा क्योकि मानव भूगोल , भूगोल के ही एक महत्वपूर्ण शाखा है। भूगोल :– भूगोल पृथ्वी के भौतिक एवं मानवीय तत्वों का अध्ययन करता है। यह एक समाकलात्मक , अनुभविक , व्यावहारिक विषय है और दिक् (देश ,क्षेत्र ) एवं काल के संबंध …

मानव भूगोल क्या है। Manav Bhugol Read More »

Scroll to Top